Home उत्तराखंड पीआरसीआई देहरादून चैप्टर की पहल – राइट टू वाॅक पर किया मंथन

पीआरसीआई देहरादून चैप्टर की पहल – राइट टू वाॅक पर किया मंथन

551
0
SHARE

देहरादून/डीबीएल संवाददाता। पब्लिक रिलेशन कांउसिल ऑफ इण्डिया (पीआरसीआई) देहरादून चैप्टर ने ग्लोबल पब्लिक रिलेशन के तत्वावधान में शनिवार को रिंग रोड स्थित होटल में ‘‘राईट टू वाक’’ कैंपेन का शुभारंभ किया। राईट टू वॉक कैंपेन का शुभारंभ पूर्व अध्यक्ष कांग्रेस पार्टी उत्तराखण्ड किशोर उपाध्याय देवेन्द्र भसीन भाजपा मीडिया प्रभारी, हस्पति उनियाल एडवाईजर प्लालिंग कमीशन, वरिष्ठ पत्रकार अनुपम त्रिवेदी ने गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पीआरसीआई देहरादून चैप्टर के उपाध्यक्ष शिशिर प्रशांत ने की।

‘‘राईट टू वॉक’’ कैंपेन में उपस्थित किशोर उपाध्याय ने पीआरसीआई के पदाधिकारियों को बधाई दी कि वे इतने महत्वपूर्ण विषय को लेकर आये हैं। उन्हांेने कहा कि राईट टू वॉक हमारा मूल अधिकार है हमें इस समस्या का समाधान करना चाहिए नही तो हमारी आने वाली पीढ़ी घर से बाहर ही नहीं निकल पाएगी।

भाजपा मीडिया प्रभारी देवेन्द्र भसीन ने कहा कि आज रोड पर चलना काफी रिस्की हो गया है। उन्होंने बताया कि मेरे कई परिचितों की रोड़ दुर्घटना में मृत्यु हुई है। उन्होंने बताया कि आर्टिकल 21 का उलंघन हो रहा है क्यों कि हमें रोड़ पर चलने का अधिकार ही नहीं है। सरकार के साथ हमारा समाज भी जागरूक नहीं है। हमें अपने कर्तव्यों को समझना चाहिए। हर्षपति उनियाल एडवाईजर प्लालिंग कमीशन ने कहा कि हमारे देश में विकास की दौर में हम मूल रूप से छोटी-छोटी चीजों को ध्यान में नहीं रख रहे हैं, हमें पैदल चलने के लिए अधिकार मांगने पड़ रहे हैं। यह बहुत ही गंभीर समस्या है इस पर हम सभी को एक साथ होकर विचार करने की जरूरत है।

पीआरसीआई देहरादून चैप्टर के उपाध्यक्ष शिशिर प्रशांत ने सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि पिछले दो दशकों में देहरादून में ट्रैफिक की गतिरोध के कारण, अधिकांश स्थानों पर पैदल चलने वालों के लिए जगह नहीं बची है। उन्होंने कहा कि मेरा चलने का अधिकार छीन लिया गया है। मैं यह अधिकार वापस चाहता हूं, वह भी पूरी गरिमा के साथ। मुझे लगता है, भारत के अधिकांश शहरों में हालात बदतर से बदतर हो गए हैं। अब समय आ गया है कि पैदल चलने के अधिकार को बहाल करने के लिए एक अभियान शुरू किया जाए।

पीआरसीआई के जोनल प्रतिनिधि करूणाकर झा ने कार्यक्रम के अंत में उपस्थित सभी लोगों को धन्यवाद करते हुए कहा कि विकास की दौड़ में हम नागरिक और राइट टू वॉक के मूल अधिकारों को भूल गए हैं और इस मूल अधिकारों की रक्षा के लिए एक कदम है। सबसे महत्वपूर्ण स्वतंत्रता लोगों की आवश्यकता है और हमें इसे प्रदान करना चाहिए और सुनिश्चित करना चाहिए।

इस दौरान सभी लोंगो ने शपथ ली की वे अपने कर्तव्यों का सभी तरीके से पालन करेंगे। कार्यक्रम के दौरान हस्ताक्षर अभियान भी चलाया गया।

मंच का संचालन नेशनल प्रतिनिधि पंकज तिवारी ने किया। इस अवसर पर पीआरसीआई सचिव विकास कुमार, कोषाध्यक्ष हेम प्रकाश सहित कई स्कूलों के छात्र मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY