Home अपना दून हरेला पर्व: पुरकुल एवं भगवन्तपुर के ग्रामीण बोले, ‘‘ मिलकर करेंगे पर्यावरण...

हरेला पर्व: पुरकुल एवं भगवन्तपुर के ग्रामीण बोले, ‘‘ मिलकर करेंगे पर्यावरण को संरक्षित’’

301
0
SHARE
डीबीएल संवाददाता
देहरादून। हरेला पर्व के मौके पर दून की ग्राम पंचायत पुरकुल एवं भगवन्तपुर क्षेत्र के ग्रामीणों ने पौधरोपण कर पर्यावरण बचाने का संकल्प लिया। हरियाली के इस अभियान को सफल बनाने के लिए महिलाओं और बच्चों ने बढ़चढ़कर प्रतिभाग किया।

ग्राम पंचायत पुरकुल में रोपे गए 750 पौधे:

पुरकुल ग्राम पंचायत के प्रधान राधेश्याम जुयाल की अगुवाई में ग्रामीणों ने क्षेत्र में विभिन्न प्रजातियों के 750 पौधे रोपे। प्रधान जुयाल ने कहा कि हरेला पर्व हरियाली को संजोये रखने का संदेश देता है। उन्होंने कहा कि तेजी से बिगड़ते पर्यावरणीय स्वरूप को पहले की तरह खुशनुमा बनाने के लिए सभी लोगों को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी।
उप प्रधान विपिन जोशी ने कहा कि हरेला पर्व पर्यावरण को बचाने के साथ ही हमें अपनी संस्कृति से भी रूबरू कराता है। उन्होंने पौधरोपण कार्यक्रम के सफल आयोजन में सभी ग्रामीणों के सहयोग के लिए आभार भी जताया। इस दौरान आंवला, लीची, अमरूद, नीबू, सागौन, कचनार, मैंक आदि प्रजाति के पौधे रोपे गए। पौधरोपण कार्यक्रम के सफल आयोजन में महिला स्वयं सहायता समूह सानवी,वानी, उन्नति, शक्ति, नई सोच, प्रगति आदि की महिलाओं की भूमिका भी सराहनीय रही। 
इस मौके पर पूर्व प्रधान नीतू जुयाल, हरीश थापली, मंजू थापली, सुषमा थापली, ललिता पुंडीर, नीतू राणा सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।

भगवन्तपुर ग्राम पंचायत के ग्रामीण बोले, ‘‘पर्यावरण बचाना प्राथमिकता’’ :

हरेला पर्व के अवसर पर भगवन्तपुर ग्राम पंचायत क्षेत्र में ग्रामीण तय समय पर सड़क किनारे, नदी, खाले वाली जगहों पर पौध रोपण करने पहुंच गए। प्रधान आरती जोशी ने बताया हरेला पर्व के अवसर पर कि उतड़ी, सलान, एवं बामन गांव में पर्यावरण संरक्षण की मुहिम को पूरी तरह से सफल बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रकृति के स्वरूप को कायम रखना अब चुनौती बनता जा रहा है। आने वाली पीढ़ी को स्वस्थ और दीर्घायु बनाने के लिए सभी को मिलजुल कर पर्यावरण संरक्षण की मुहिम की सफलता के लिए कमर कसनी होगी। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी पंचायत में विकास कार्यों के साथ ही पर्यावरण संरक्षण के कार्य को प्राथमिकता के साथ आगे बढ़ाया जाएगा।
उतड़ी गांव के बुद्धिजीवी सचिन पंवार ने कहा कि आबादी का ग्राफ बढ़ने से प्रकृति का दोहन भी बढ़ गया है जिससे दुष्परिणाम सबके सामने हैं। उन्होंने पेयजल श्रोतों के सिमटते स्वरूप पर चिंता जताते हुए कहा कि इस दिशा में मिलकर कार्य करने की जरूरत है।
समाजसेवी एवं पर्यावरणीय चिंतक दीपक जोशी ने बताया कि ग्राम पंचायत भगवन्तपुर क्षेत्र में हरेला पर्व के मौके 500 विभिन्न प्रजातियों के पौधे रोपकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण की यह निरंतरता जारी रहेगी। औषधीय पौधे बेलपत्री, आंवला, नीम हरेड़ा आदि के साथ फलदार एवं छायादार पौधों को उगाया जा रहा है।
इस मौके पर पूर्णानंद पांडे, वरदान जोशी, लक्ष्मी देवी, राधिका जोशी, नेहा सिंह, आयुष जोशी, आरती सिंह, बल बहादुर, गीता पैन्यूली, प्रवीण पंवार, अरुण पैन्यूली सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने पौधे रोपे और पर्यावरण को बचाने का संकल्प लिया।

LEAVE A REPLY