Home उत्तराखंड प्रदेशभर के 24 हजार उपनल कर्मियों ने शुरु की दो दिवसीय हड़ताल...

प्रदेशभर के 24 हजार उपनल कर्मियों ने शुरु की दो दिवसीय हड़ताल – मांगें पूरी न होने पर दी अनिश्चितकालीन हड़ताल की दी चेतावनी

673
0
SHARE

देहरादून। अपनी तीन सूत्रीय मांगों को लेकर उपनल कर्मचारी महासंघ से जुडे राज्य के विभिन्न विभागों में उपनल के माध्यम से कार्यरत संविदा कर्मचारियों ने सरकार को चेताने के लिए दो दिवसीय हड़ताल शुरू कर दी है। उन्होंने आरोप लगाया है कि समान पद समान वेतनमान लागू करने को लेकर सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों के बावजूद मामले में आज तक शासन ने कोई कदम नहीं उठाया है। उपनल कर्मचारी महासंघ ने प्रदेश सरकार को चेतावनी दी है कि दो दिवसीय हड़ताल के बाद 15 दिन तक मांगों का समाधान नहीं किया गया तो इसके बाद अनिश्चितकालीन हड़ताल आरंभ कर दी जायेगी।

सोमवार को उपनल कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से विभिन्न विभागों में कामकाज प्रभावित रहा और चिकित्सालयों में भी इस हड़ताल का व्यापक असर दिखाई दिया। उपनलकर्मी परेड ग्राउंड स्थित स्थित धरना स्थल में प्रदेश अध्यक्ष दीपक सिंह चौहान के नेतृत्व में कर्मचारी एकत्र हुए और वहां पर उन्होंने अपनी मांगों के समाधान के लिए सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए धरना दिया। उन्होंने कहा कि दून के अंतर्गत कार्यरत स्वास्थ्य, परिवहन, वन, नगर निगम, जल संस्थान एवं राजकीय विश्वविद्यालयों के समस्त उपनल संविदा कर्मचारी एकजुट होंगें। उनका कहना है कि विगत तीन माह से लगातार सरकार से वार्ता और पत्राचार किया जा रहा है जिसमें उपनल संविदा कर्मचारियों के भविष्य को लेकर अपनी मांगों से उन्हें बार बार अवगत कराया गया किन्तु आज तक उनके भविष्य को लेकर न तो कोई नीति निर्धारित की गई और न ही उन्हें काम के अनुरूप वेतन दिया जा रहा है।

चौहान ने कहा कि एक ओर नियमित कर्मचारियों को जहां सातवें वेतन आयोग का लाभ दिया जा रहा है और वहीं दूसरी ओर उपनल के कार्मिकों के वेतन बढ़ोत्तरी को लेकर सरकार बजट की कमी का रोना रोती है। उपनल के माध्यम से लगभग 24 हजार कार्मिक कार्यरत है जो लगातार अपनी निष्ठा व लगन के साथ सेवायें दे रहे है। राजकीय एवं निगम कर्मचारियों को सातवें वेतनमान का लाभ दिया जा चुका है लेकिन अभी तक उपनल कार्मिकों में हताशा व निराशा है। प्रदेश में कार्यरत उपनल कर्मचारियों के सुरक्षित भविष्य हेतु कोई नियमावली बनाई जाये तथा जब तक नियमावली नहीं बनाई जाती है तब तक किसी भी कर्मचारी को न हटाये जाने का शासनादेश निर्गत किया जायेगा। समाधान न होने पर अनिश्चितकालीन प्रदेशव्यापी आंदोलन चलाया जायेगा।

धरना एवं प्रदर्शन में संरक्षक भावेश जगूडी, महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष दीपक सिंह चौहान, विद्या सागर धस्माना, हरीश कोठारी, राकेश जोशी, नरेश शाह, हेमंत रावत, अभिनव जोशी, रमेश सिंह रावत सहित प्रदेश भर से आये हुए उपनल कर्मचारी मौजूद थे।

Key Words : Uttarakhand, Dehradun, Veteran Workers, Strike, Demands

 

LEAVE A REPLY