Home सामाजिक सरोकार त्यूणी बस हादसा : अनूप ने उठाई सड़क नियमों में सख्ती की...

त्यूणी बस हादसा : अनूप ने उठाई सड़क नियमों में सख्ती की मांग

603
0
SHARE

श्रद्धालुओं व पर्यटकों को भी खौफजदा करते हैं सड़क हादसे : अनूप

देहरादून। जनसरोकारों से जुड़े मुद्दों के लिए आवाज बुलंद करने वाले अनूप नौटियाल ने त्यूणी में हुए बस हादसे पर दुःख जताया है। मृतकों की आत्मशांति व उनके परिजनों को शक्ति प्रदान करने की कामना के साथ उन्होंने सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से अपील करी है कि इस घटना से सीख लेते हुए प्रदेश सरकार सड़क हादसों का शिकार बनने वाले बेकसूर लोगों की सुरक्षा के लिए नियमों को सख्ती से लागू करे।

अनूप नौटियाल ने कहा त्यूनी जा रही बस हादसे से 47 बेकसूर लोगों को अपन जान गंवानी पड़ी। प्रशासन को चाहिए कि वे इस हादसे से सबक लेते हुए सड़को की सुरक्षा की दृष्टि से कानून बनाए। उन्होंने कहा कि पहाड़ों में होने वाले सड़क हादसे प्रदेश की चार धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं और पर्यटकों के मन में खौफ पैदा करने वाले हैं।

उन्होंने प्रदेश सरकार को सुझाव देते हुए कहा है कि पहाड़ी मार्गों पर आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल कर सड़क सुरक्षा के इंतजाम पुख्ता किए जाने चाहिएं। पहाड़ो में मिट्टठ्ठी स्थिरीकरण ढलान स्थिरता की तकनीक अपनाने पर जोर दिया है। जिससे पहाड़ों में वाहनो में स्थिरीकरण लाया जा सके। उन्होंने यह भी कहा है कि इसके साथ ही मार्गां पर जगह-जगह क्रेश बेरियर और साइन बोर्ड लगाए जाएं जिससे यात्रा के दौरान सही रास्तों की जानकारी उपलब्ध हो सके और वाहन चालक सजग रह सकें।

अनूप ने सरकार से यह भी मांग की है कि विभागीय स्तर से भी सड़क नियमों की समय-समय पर जांच करवाया जाना बेहद जरूरी है। पहाड़ो में दुर्घटना रोकने के लिए नियमों को सख्ती से लागू किया जाना अति महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा है कि सरकार को चाहिए कि पहाड़ी मार्ग पर अधिक से अधिक पब्लिक ट्रांस्पोर्ट की सुविधा भी जनता को मुहैया कराए जिससे ट्रांस्पोर्ट के अभाव में यात्रा के दौरान आम जन ओवर लोड गाड़ी में सवार न हो।

अनूप नौटियाल ने सरकार से अपील करी है कि दैनिक जीवन की गतिविधियों में भी जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाये जाने की आवश्यकता है, ताकि प्रदेश की जनता और पर्यटक स्वयं को सुरक्षित महसूस कर सकें।

Key Words : Uttarakhand, Dehradun, Tuuni, Bus Accident, Anoop Nautiyal

LEAVE A REPLY