Home उत्तराखंड रुद्रप्रयाग में ई-टेंडरिंग के खिलाफ ठेकेदारों ने दी चेतावनी

रुद्रप्रयाग में ई-टेंडरिंग के खिलाफ ठेकेदारों ने दी चेतावनी

613
0
SHARE

पांच सूत्रीय मांगों को लेकर मुख्यालय पर किया प्रदर्शन : 

रुद्रप्रयाग। राजकीय ठेकेदार संघ के बैनर तले रुद्रप्रयाग में ठेकेदारों ने अपनी पांच सूत्रीय मांगों को लेकर मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। संघ ने जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को एक ज्ञापन भी भेजा जिसमें ठेकेदारों ने कहा है कि सरकार ने यदि शीघ्र उनकी मांगों पर सकारात्मक निर्णय नहीं लिया तो राज्य व्यापी आंदोलन छेड़ा जायेगा।

सोमवार को राजकीय ठेकेदार संघ रुद्रप्रयाग के तहत पंजीकृत ठेकेदार लोक निर्माण विभाग कार्यालय के पास एकत्र हुए और प्रदर्शन करते हुए पुराने विकास भवन कार्यालय पहुंचे, जहां जिलाधिकारी की ओर से जनता दरबार लगाया हुआ था। इस दौरान ठेकेदारों ने सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी भी की। ठेकेदारों ने कहा कि वर्तमान में सरकार द्वारा 25 लाख से ऊपर ई-टेंडरिंग की व्यवस्था की गई है, जो कि स्थानीय बेरोजगारों के हितों पर कुठाराघात है। यह व्यवस्था जल्द ही खत्म होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि विभागों में पंजीकरण की व्यवस्था पूर्व की भंाति रखी जाय और कार्यों की निविदा पहले की तरह ही छोटी-छोटी आमंत्रित की जाय। सरकार की घोषणा के अनुरूप स्थानीय निवासियों को पांच करोड़ तक की निविदाओं को छोटी करते हुए आमंत्रित की जाएं और जीएसटी की दरें पूर्ववत की भांति रखी जाएं जिससे ठेकेदारों को परेशानियों से न जूझना पड़े। ठेकेदारों ने मांगों पर सकारात्मक निर्णय न लिये जाने पर राज्यव्यापी आंदोलन की चेतावनी भी दी है।

प्रदर्शन करने वालों में मोहन सिंह बिष्ट उर्फ भूरा, राय प्रसाद भट्ट, धन सिंह राणा, सुरेन्द्र बिष्ट, अनिल पुरोहित, राकेश सिंह नेगी, महेश सिंह, गोपाल सिंह, हिम्मत सिंह सहित कई ठेकेदार मौजूद थे।

ऊखीमठ में भी किया प्रदर्शन:
ऊखीमठ। ऊखीमठ में केदारनाथ लोक निर्माण ठेकेदार समिति ने तहसील मुख्यालय पर प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस मौके पर संरक्षक कुलदीप कंडारी, अध्यक्ष आनंद सिंह नेगी, कोषाध्यक्ष जय सिंह चैहान, सचिव नरेन्द्र पंवार, हरेन्द्र राणा, शत्रुघ्न सिंह नेगी, दिगम्बर गुसाई, कर्मवीर बत्र्वाल, बांके लाल, गोविंद सिंह पंवार, विनोद रावत, विनोद कप्रवाण, चक्रवीर भंडारी, इन्द्र सिंह बिष्ट सहित कई ठेकेदार मौजूद थे।

Key Words : Uttarakhand, Rudraprayag, Ukhimath, E-Tendering, Contractor, Warn

LEAVE A REPLY