Home क्राइम शर्मनाक: शादी में कुर्सी पर बैठकर खाना खाने पर दलित की हत्या

शर्मनाक: शादी में कुर्सी पर बैठकर खाना खाने पर दलित की हत्या

702
0
SHARE

टिहरी जिले के नैनबाग के शादी समारोह में एक अनुसूचित जाति युवक को ऊंची जाति के लोगों के सामने बैठ कर खाना खाना भारी पड़ा। लोगों द्वारा उस जाति विशेष के युवक को बेरहमी से पीटा। इसमें युवक गंभीर रूप से घायल हो गया।

 

रविवार को उपचार के दौरान युवक की देहरादून के एक अस्पताल में मौत हो गई। युवक की मौत के बाद परिजनों में कोहराम मचा गया। परिजनों ने आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

जानकारी के अनुसार, उत्तराखंड के टिहरी में बीते 26 अप्रैल को नैनबाग तहसील के अंतर्गत ग्राम श्रीकोट निवासी प्रदीप पुत्र कालिया दास की शादी थी। सुबह को प्रदीप की बारात श्रीकोट से जौनपुर क्षेत्र के ललोटना  गई और उसी शाम बारात वापस श्रीकोट पहुंची।

रात के समय शादी की पार्टी के दौरान क्षेत्र के ऊंची जाति के कुछ लोग खाना खा रहे थे, इतने में ग्राम बसाणगांव पोस्ट श्रीकोट पट्टी इडवाल्सयु टिहरी गढ़वाल निवासी जितेंद्र 23 पुत्र स्व0सेवक दास उन लोगों के सामने कुर्सी लगाकर खाना खाने लगा।

 

जो उन लोगों को ग्वारा न हुआ। उन लोगों ने उस जाति विशेष के युवक की कुर्सी पर लात मारी जिससे जितेंद्र नीचे गिर गया और उसकी हाथ से खाने की थाली उछल कर बाकी लोगों पर गिर गई। 

जिससे बाकी लोगों ने भी जितेंद्र को जमकर पीटा और पीटते हुए शादी समारोह से दूर ले जाकर उसके साथ और मार पिटाई की। जिससे वह युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। जितेंद्र दास घायल अवस्था में अपने घर पहुंचा और किसी से कुछ न कह कर व सो गया।

अगले दिन सुबह को जब उसकी हालत बिगड़ने पर परिजन उसे नैनबाग स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। हालत में सुधार नहीं होने पर 27 अप्रैल को उसे देहरादून के महंत इन्दिरेश अस्पताल में भर्ती कराया। रविवार सुबह उपचार के दौरान जितेंद्र दास ने दम तोड़ दिया। जिससे परिवार में कोहराम मच गया। जितेंद्र की मौत की खबर पर बड़ी संख्या में परिजन, रिश्तेदार और ग्रामीण देहरादून पहुंच गये। टिहरी के कैंपटी थाना की पुलिस के खिलाफ आक्रोश जताकर कार्रवाई की मांग की। युवक की मौत और हंगामे की सूचना पाकर दून और टिहरी पुलिस समेत एलआईयू की टीम मौके पर पहुंच गई। देर शाम तक कोरोनेशन अस्पताल स्थित मोर्चरी में पोस्टमार्टम कराया।  वही दलित युवक की मौत के 24 घंटे बाद बीजेपी, कांग्रेस तो छोड़िए बीएसपी से भी निंदा तक का बयान नहीं आया है. सिर्फ़ टिहरी के पूर्व विधायक और कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने ही इस घटना को राज्य के लिए कलंक बताते हुए एक बयान जारी किया है, और उत्तराखण्ड संवैधानिकअधिकार संरक्षण मंच के प्रदेश संयोजक व वर्त्तमान टिहरी ;लोकसभा से निर्दलय प्रत्याशी दौलत कुंवर ने महामहिम राज्यपाल को पत्र लिख कर  चेतावनी  दी की यदि  दोषियों की तीन दिन में गिरफ्तारी नहीं हुई तो वह चौथे  दिन से माननीय मुख्यमंत्री भवन के बहार भूख हड़ताल करेगे |

LEAVE A REPLY