Home उत्तराखंड रुद्रप्रयाग में शराब की दुकान के विरोध में स्कूली बच्चे भी सड़क...

रुद्रप्रयाग में शराब की दुकान के विरोध में स्कूली बच्चे भी सड़क पर उतरे

926
0
SHARE

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ विधानसभा के चन्द्रनगर में शराब की दुकान को लेकर आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है। शुक्रवार को शराब की दुकान के विरोध में जहां स्कूली बच्चों ने जोरदार प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की, वहीं जनप्रतिनिधियों और ग्रामीणों ने कलक्ट्रेट पहुंचकर एक दिवसीय धरना देकर जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को ज्ञापन भेजा। ग्रामीणों ने एक स्वर में कहा कि किसी भी कीमत पर क्षेत्र में शराब की दुकान नहीं खुलने दी जायेगी, चाहे इसके लिए ग्रामीण किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार हैं।

रुद्रप्रयाग जिले की केदारनाथ विधानसभा के चन्द्रनगर में शराब की दुकान का पहले दिन से ही विरोध चल रहा है। शराब की दुकान को लेकर महिलाएं हर दिन आंदोलन कर रही हैं। कभी ग्रामीण महिलाएं शराब की पेटियों को नष्ट कर रही हैं तो कभी जहां दुकान का संचालन शुरू हो रहा है, वहां पहुंचकर शराब संचालकों को खदेड़ रही हैं। शुक्रवार को शराब की दुकान के विरोध में एक ओर स्कूली छात्रों ने चन्द्रनगर बाजार में रैली निकालकर सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। वहीं दूसरी ओर केदारनाथ विधायक मनोज रावत के नेतृत्व में क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों ने कलक्ट्रेट पहुंचकर एक दिवसीय धरना दिया। धरना स्थल पर विधायक मनोज रावत ने कहा कि पहले ही केदारनाथ विधानसभा में शराब की दुकानों से ग्रामीण महिलाएं परेशान है।एक ओर शराब की दुकान को स्वीकृति देकर सरकार ने महिलाओं की परेशानियों को बढ़ा दिया है। उन्होंने कहा कि चन्द्रनगर क्षेत्र का मुख्य केन्द्र बिन्दु है और वहां पर शराब की दुकान खुलने से सामाजिक माहौल बिगड़ जायेगा।

जिला पंचायत सदस्य कल्पेश्वरी देवी ने कहा कि जिले में शराब बंदी होनी चाहिए। उन्होंने चेतावनी दी कि प्रशासन ने जल्द ही शराब की दुकान को लेकर कोई निर्णय नहीं लिया तो आंदोलन को उग्र किया जायेगा। इस दौरान जनप्रतिनिधियों ने जिलाधिकारी के माध्यम से सीएम को ज्ञापन भी भेजा और शराब की दुकान को निरस्त करने की मांग की।

इस मौके पर ताजबर सिंह खत्री, शत्रुघ्न सिंह नेगी, लक्ष्मण सिंह, सुमन सिंह नेगी, वीरपाल रावत, मोहन सिंह नेगी, चरण सिंह, संगीता देवी, चन्द्रा देवी, सरिता देवी, सोनी देवी, अंजली देवी, जसमती देवी, सुशीला देवी, सुनीता देवी सहित कई ग्रामीण मौजूद थे।

LEAVE A REPLY