Home उत्तराखंड चकराता के 34 राजस्व गांवों को पुलिस के अधीन किए जाने का...

चकराता के 34 राजस्व गांवों को पुलिस के अधीन किए जाने का विरोध

631
0
SHARE

ग्रामीणों ने छावनी बाजार में किया प्रदर्शन :

चकराता। तहसील क्षेत्र के 34 राजस्व गांवों को राजस्व पुलिस से हटाकर थाना पुलिस के अधीन किए जाने के प्रदेश सरकार के निर्णय से नाराज ग्रामीणों ने छावनी बाजार में प्रदर्शन किया। उन्होंने तहसील कार्यालय जाकर तहसीलदार के माध्यम से जिलाधिकारी को एक ज्ञापन भी भेजा।

शुक्रवार को चकराता के राजस्व ग्रामों को पुलिस के अधीन किए जाने के प्रदेश सरकार के निर्णय से खफा ग्रामीणों ने कहा कि चकराता बाजार के निकटवर्ती जिन चैतीस गांवों को रेगुलर पुलिस के सुपुर्द किया जा रहा है वह कतई सही नहीं है। ग्रामीणों ने कहा कि इन गांवों में अपराध न के बराबर है। शांति व्यवस्था राजस्व पुलिस के पटवारी संतोषजनक ढंग से संभाल रहे हैं। थाना पुलिस के सुपुर्द होने पर उनका उत्पीड़न होगा और क्षेत्र की पारंपरिक संस्कृति भी प्रभावित होगी।

ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि यदि टुंगरा, मोहना, रिखाड़, बिरमोउफ, पाटी, रावना, बुरास्वा, मयरावना आदि प्रस्तावित चैतीस गांवों को थाना पुलिस के अधीन किया गया तो इस निर्णय के विरोध में वे आंदोलन करने को मजबूर होंगे।

प्रदर्शन करने वालों में स्याणा अर्जुन, सालक राम, हृदय राम, श्रीचंद, भीम सिंह, मोहर सिंह, प्रताप, गोविंद राम सहित दर्जनों ग्रामीण शामिल थे।

Key Words : Uttarakhand, Dehradun, Chakrata, Revenue Villages, Police, Opposition

 

LEAVE A REPLY