Home उत्तराखंड स्वच्छ भारत अभियान की हकीकत बयां कर रही नगर पंचायत पुरोला

स्वच्छ भारत अभियान की हकीकत बयां कर रही नगर पंचायत पुरोला

1309
0
SHARE

शान्ति टम्टा/पुरोला। एक ओर जहॉं केंद्र और राज्य सरकारें स्वच्छता अभियान चलाकर देश को स्वच्छ रखने की अपील कर रही हैं वहीं दूसरी ओर इस अभियान की सफलता के लिए संसाधन उपलब्ध करवाने में पूरी तरह से लापरवाही का आलम बना हुआ है।

बात करते हैं पुरोला नगर पंचायत की जिसे बने पूरे 5 साल हो चुके हैं लेकिन आज तक नगर पंचायत के पास अपने स्वयं के सफाईककर्मी तक नहीं हैं। दैनिक वेतन के अनुसार पंचायत में कुल 5 सफ़ाई कर्मी हैं लेकिन 9 किमी की क्षेत्र में फैले नगर पंचायत पुरोला में जिधर भी नजर फेरो वहीं कूड़े के ढेर नजर आते हैं। कूड़े कचरे को डंपिंग करने तक का भी स्थान नगर पंचायत के पास नहीं है। नगर पंचायत सड़क किनारे कचरे को जलाने को मजबूर हैं जिससे पर्यावरण प्रदूषित हो रहा है। कचरे के ढेर जमा होने से नगर में बंदरों का आतंक भी बढ़ने लगा है जिससे स्थानीय लोगों और खासकर बच्चों के लिए खतरा बढ़ गया है।

मामले में नगर पंचायत अध्यक्ष प्यारे लाल हिमानी का कहना है कि मात्र 5 सफ़ाई कर्मियों के सहारे 9 किमी क्षेत्र में फैली नगर पंचायत को स्वच्छ रखने का प्रयास किया जा रहा है। वह कहते हैं कि कूड़ा उठान के लिए नगर पंचायत के पास व्यवस्थाओं का न होना मजबूरी है। स्टॉफ की कमी बताते हुए उन्होंने बताया कि नगर पंचायत के पास अपने प्रशासनिक अधिकारी स्टेनो व जेई तक नहीं हैं। वैकल्पिक व्यवस्था के तहत अटैच किये गए हैं 4 सफ़ाई कर्मी पूरे नगर पंचायत में सफाई करने में असमर्थ हैं। उन्होंने यह भी बताया कि नगरवासियों को स्वच्छता अभियान के तहत कूड़ेदान वितरित किए गए हैं। साथ ही लोगों को जैविक व अजैविक कूड़े को अलग-अलग एकत्र करने के बारे में भी जानकारी दी गई है, जिससे अब काफ़ी हद तक नगर को स्वच्छ रखने में सहयोग मिल रहा है। वह कहते हैं कि संसाधनों की कमी के बावजूद नगर पंचाचत की ओर से साफ-सफाई को लेकर लोगों को जागरूक करने के पूरे प्रयास जारी हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि शौचालय निर्माण योजना के तहत नगर पंचायत ने सभी वार्डों में शौचालय विहीन परिवारों में शौचालय निर्माण कार्य पूर्ण किया गया है। नगर में सार्वजनिक स्थानों पर भी शौचालयों का निर्माण कर स्वच्छता अभियान को सफल बनाने की मुहिम जारी है।

Key Words : Uttarakhand, Uttarkashi, Purola, Nagar Panchayat, Swachata Abhiyan

LEAVE A REPLY