Home उत्तराखंड (30 मईः पत्रकारिता दिवस ) एनयूजे ने आयोजित की गोष्ठी : पत्रकार...

(30 मईः पत्रकारिता दिवस ) एनयूजे ने आयोजित की गोष्ठी : पत्रकार समाज का दर्पण – सकलानी

616
0
SHARE

देहरादून। हिन्दी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स की ओर से विचार गोष्ठी का आयोजन यूनियन के जिला कार्यालय में किया गया। गोष्ठी में संगठन से जुड़े सदस्यों ने अपने विचार रखे। इस दौरान सभी सदस्यों ने अपने दायित्वों का भली-भांति निर्वहन करने का संकल्प भी लिया।

नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के प्रदेश महामंत्री निशीथ सकलानी ने कहा कि पत्रकार समाज का दर्पण है। समाज की जैसी तस्वीर वह समाचारों के माध्यम से समाज में रखता है वैसे ही समाज प्रतिक्रिया व्यक्त करता है। इसलिए पत्रकार को वर्तमान में कुछ भी लिखने से पहले समाज के हित को ध्यान में रखना चाहिए। प्रदेश महामंत्री ने केन्द्र व राज्य सरकार से पत्रकार सुरक्षा कानून को तत्काल लागू करने की मांग करते हुए कहा कि पत्रकारों पर आये दिन हो रहे हमलों पर भी कार्यवाही की जाए।

प्रदेश मंत्री अरूण कुमार मोगा ने कहा कि आज के दौर में पत्रकारों के बीच आपसी तालमेल भी नितान्त आवश्यकता है। नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के जिलाध्यक्ष सुशील चमोली ने कहा कि पत्रकारिता दिवस सभी पत्रकारों के कर्तव्य बोध का दिन है। उन्हांने कहा कि राज्य सरकारों को स्थानीय पत्रकारों के हितों को ध्यान में रखते हुए उनकी समस्याओं पर भी गंभीरता से विचार करना चाहिए ताकि वह समाज में
सरकार और जनता के बीच एक सेतु की तरह कार्य करते हुए एक दूसरे की बात को रख सके।

जिला महामंत्री राजीव मैथ्यू ने कहा कि हमें अपने से वरिष्ठ पत्रकारों का सम्मान करते हुए उनसे प्रेरणा लेकर उनके बताये हुए मार्ग पर चलने का प्रयास करना चाहिए। और पीत पत्रकारिता के मुखौटे को समाज में बेनकाब करना चाहिए।

गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए वरिष्ठ पत्रकार नरेश रोहिला ने कहा कि सरकार पत्रकारों के लिए बने नवीनतम वेतन बोर्ड की सिफारिशों को लागू करवाने के लिए कार्यवाही को तत्काल अमल में लाये।

इस अवसर पर दीपक गुसांई, सुभाष कुमार, विपिन सिंह, विनोद ममगांई, सुरेन्द्र नाथ भट्ट, अनवर अली खान, राकेश भट्ट आदि ने भी अपने विचार रखे। एनयूजे की गतिविधियों में उत्कृष्ट योगदान के संगठन से जुड़े पत्रकारों को सम्मानित भी किया गया। 

LEAVE A REPLY