Home सामाजिक सरोकार जीवन साथी के लिए आखिरी विकल्प बना शादी का इश्तहार

जीवन साथी के लिए आखिरी विकल्प बना शादी का इश्तहार

807
0
SHARE

विनीत माकिन
युवा पीढ़ी के करियर बनाने और सेटल होने के सपने के आगे सामाजिक सरोकार कहीं पीछे छूटते जा रहे हैं। आज की इस भागदौड़ वाली जिंदगी में सही उम्र में शादी एक बड़ी समस्या बनती जा रही है। आज के युवाओं में यह भ्रांति घर कर गई है कि शादी मतलब जिम्मेदारी। वे शादी की जिम्मेदारी उठाने के लिए पहले पूरी तरह से आर्थिक और मानसिक रूप से तैयार होना चाहते हैं, लेकिन इस तैयारी में उम्र का तकाजा शादी की राह में रोड़ा बन जाता है। यही वजह है कि आज शादी के लिए इश्तहार देना आज एक रिवाज बन गया है।

पुराने समय में लोग छोटी उम्र में ही शादी को सही मानते थे लेकिन उस समय पर उन्हें किसी तरह के शादी के बाद होने वाले बदलाव की समझ ही नहीं होती थी जिसके चलते काफी दुष्परिणाम भी सामने आते थे। आज के समय में हमारे देश और समाज में 20 से 25 की उम्र को शादी के लिए सही माना गया है, लेकिन आज युवाओं की सोच में काफी बदलाव आ गया है उनके लिए अपने कैरियर को सैट करने की उम्र ही 20 से 30 हो गई है। इस उम्र के दौरान शादी की बात करना युवाओं को नागुजार होता जा रहा है। पैसा कमाना उनका प्राथमिक लक्ष्य बन गया है।

बड़ी उम्र में शादी को लेकर एक वजह यह भी है कि बदलते समय के साथ युवाओं नजरिया भी बदल चुका है। शादी को लेकर कुछ युवाओं ने पश्चिमी देशों की तरह ‘लिव इन रिलेशन’ को भी अपनाना शुरू कर दिया है। इसका मतलब हैं की लड़का और लड़की शादी से पहले ही एक साथ रहते हैं, लेकिन हमारे देश में अभी इस रिश्ते को अवैध रूप से ही देखा जाता है। युवा इस पहल से इसलिए भी ज्यादा प्रभावित होते हैं क्योंकि इसमें शादी जैसी कोई जिम्मेवारियां नहीं उठानी पड़ती हैं। यह कहना भी गलत न होगा कि आज का युवा वर्ग ज्यादा रोकटोक पसंद नहीं करता है शायद इसी लिए वे लिव इन रिलेशनशिप के रिश्ते की ओर आकर्षित हो रहे हैं। शहरी क्षेत्रों में एकल जीवन यापन करने का प्रचलन कुछ ज्यादा ही बढ़ता जा रहा है।

युवाओं में बढ़ी उम्र में शादी को लेकर बदलती मानसिकता के चलते शादी के लिए इश्तहार देना एक मजबूरी बन गया है। देर से शादी करने वाले युवाओं के साथ ही बढ़ते तलाक के मामलों के बाद दोबारा गृहस्थी बसाने वालों को भी जीवन साथी की तलाश रहती है। ऐसे हालातों में उनके लिए हर तरह का जीवन साथी ढूंढ देने का दम भरने वाले ही आखिरी विकल्प साबित होते हैं।

Key Words : Young Generation, Marriage , Advertisement, last option

LEAVE A REPLY