Home उत्तराखंड भारत-नेपाल के सम्बंध सदियों पुराने : त्रिवेन्द्र

भारत-नेपाल के सम्बंध सदियों पुराने : त्रिवेन्द्र

744
0
SHARE

देहरादून। एफआरआई में भारत नेपाल सम्बंध और सुरक्षा संबंधी विषयों पर आयोजित संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि भारत व नेपाल में सदियों से मजबूत सांस्कृतिक व सामाजिक स्थायी सम्बंध रहे हैं। हमें ऐसे तत्वों से सावधान रहना चाहिए जो हमारे रिश्तों के बीच आकर दरार पैदा करना चाहते हैं। दो दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन अंतर्राष्ट्रीय सहयोग परिषद, भारत व नीति अनुसंधान प्रतिष्ठान, नेपाल द्वारा संयुक्त रूप से किया गया है।

मंगलवार को मुख्यमंत्री रावत ने संगोष्ठी के आयोजन पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि उत्तराखंड व नेपाल का तो आपस में गहरा नाता रहा है। यहां के लोगों में पारिवारिक रिश्ते भी हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि संगोष्ठी में व्यक्त विचारधारा दोनों देशों के लोगों तक पहुंचनी चाहिए। हमारे संबंध और अधिक प्रगाढ़ होंगे। हमारे सांस्कृतिक व सामाजिक संबंध तो हैं ही, हमारे आर्थिक रिश्ते भी हमें एक करते हैं। भारत व नेपाल की एकता सदियों से रही है और वर्तमान वैश्विक परदिश्य को देखते हुए यह एकता भविष्य में भी बनी रहनी जरूरी है।

कार्यक्रम में नेपाल के पूर्व विदेश सचिव मधु रमण आचार्य, भारत के पूर्व विदेश सचिव शशांक, नीति अनुसंधान प्रतिष्ठान के निदेशक दीपक अधिकारी सहित कई गणमान्य मौजूद थे।

Key Words : India, Nepal, Relations, Dehradun, Seminar

LEAVE A REPLY