Home उत्तराखंड ठोस अपशिष्ट प्रबन्धन प्रशिक्षण : हरिद्वार की गोवर्द्धन ग्राम पंचायत को मिला...

ठोस अपशिष्ट प्रबन्धन प्रशिक्षण : हरिद्वार की गोवर्द्धन ग्राम पंचायत को मिला बेस्ट डीपीआर निर्माण का अवार्ड

923
0
SHARE

उत्कृष्ट डीपीआर निर्माण के लिए खानपुर ब्लॉक के सहायक विकास अधिकारी एसएम रतूड़ी को किया गया सम्मानित :

देहरादून। पंचायतीराज विभाग के तत्वावधान में सूबे की ग्राम पंचायतों के लिए ठोस अपशिष्ट प्रबन्ध निर्माण हेतु सहायक विकास अधिकारी पंचायत एवं ग्राम पंचायत विकास अधिकारी सहित पंचायत प्रतिनिधियों के दो दिवसीय राज्य स्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन हो गया। प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन पर हरिद्वार जिले की गोवर्द्धन ग्राम पंचायत की उत्कृष्ट डीपीआर निर्माण के लिए खानपुर ब्लॉक के सहायक विकास अधिकारी एसएम रतूड़ी को सहायक निदेशक पंचायतीराज मनोज तिवारी ने राज्य स्तरीय सम्मान से पुरस्कृत किया। इस दौरान अपेक्षा जताई गई कि गोवर्द्धन ग्राम पंचायत से प्रेरणा लेकर प्रदेश की अन्य ग्राम पंचायतों में भी ठोस अपशिष्ट प्रबन्धन कार्य हेतु डीपीआर निर्माण किया जाए।

बुधवार को पंचायतीराज विभाग की ओर से ठोस अपशिष्ट प्रबन्धन के तहत डीपीआर निर्माण निर्माण प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन हो गया। इस अवसर पर हरिद्वार जिले की खानपुर ब्लॉक की गोवर्द्धन ग्राम पंचायत की डीपीआर को मॉडल डीपीआर के रूप में चयनित किया गया। इस डीपीआर निर्माण के लिए सहायक विकास अधिकारी एसएम रतूड़ी को राज्य स्तरीय सम्मान प्रदान किया गया। इस अवसर पर एसएम रतूड़ी ने अपने डीपीआर निर्माण के अपने अनुभवों को सभी से साझा किया। उन्होंने कहा कि डीपीआर निर्माण के लिए ग्रामीणों की सहभागिता और संसाधनों का विश्लेषण बेहद महत्वपूर्ण है।

डीपीआर का परीक्षण करते हुए विशेषज्ञ स्वागत पटनायक एवं अनिल मिश्रा ने एसएम रतूड़ी द्वारा निर्मित डीपीआर को उत्कृष्टता के आधार पर चयनित किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश की अन्य ग्राम पंचायतों के लिए यह डीपीआर मॉडल का कार्य करेगी।

सहायक विकास अधिकारी रतूड़ी ने बताया कि गोवर्द्धन ग्राम पंचायत की डीपीआर निर्माण के लिए चार प्रशिक्षित सदस्यों की टीम बनाकर गांव के हर व्यक्ति के सुझाव, भौगोलिक परिस्थिति, संसाधनों और विकास कार्यों के लिए उपलब्ध धनराशि के आधार पर मॉडल डीपीआर निर्माण का कार्य किया गया। उन्होंने आह्वान किया कि खानपुर ब्लॉक के गोवर्द्धन ग्राम पंचायत की तर्ज पर पूरे प्रदेश में डीपीआर का निर्माण किया जाना चाहिए।

निदेशक पंचायती राज एचसी सेमवाल, संयुक्त निदेशक डीपी देवराड़ी, वित्त नियंत्रक प्रमिला पैन्यूली, वरिष्ठ प्रशिक्षक प्रकाश रतूड़ी ने सहायक विकास अधिकारी एसएम रतूड़ी के डीपीआर निर्माण कार्य की सराहना की और प्रदेश की अन्य ग्राम पंचायतों के लिए इसे प्रेरणास्वरूप बताया।

इस अवसर पर सहायक विकास अधिकारी एसोसिएशन के प्रदेश महासचिव सीपी सुयाल, विरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष ओमप्रकाश, प्रदेश सलाहकार जयानंद बड़ोनी, प्रदेश कोषाध्यक्ष भुवन चन्द्र थपलियाल सहित सभी संगठनों के पदाधिकारियों ने सहायक विकास अधिकारी एसएम रतूड़ी को अपनी शुभकामनायें दीं।

LEAVE A REPLY