Home उत्तराखंड गढ़वाल सभा ने विभूतियों को उत्कृष्ट कार्य के लिए किया सम्मानित

गढ़वाल सभा ने विभूतियों को उत्कृष्ट कार्य के लिए किया सम्मानित

604
0
SHARE

मसूरी। गढ़वाल सभा मसूरी का स्थापना दिवस सांस्कृतिक कार्यक्रमों की रंगारंग प्रस्तुतियां के साथ धूमधाम से मनाया गया। गढ़वाल सभा की ओर से विभिन्न क्षेत्रों में योगदान के लिए चार विभूतियों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर गढ़वाल सभा की ओर से गढ़वाली व कुमांऊनी भाषा को आठवीं सूची में शामिल किए जाने की मांग भी उठाई गई।

गुरूवार को मसूरी के लाइब्रेरी स्थित एक होटल के सभागार में गढ़वाल सभा मसूरी के स्थापना दिवसर पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में पूर्व विधायक जोत सिंह गुनसोला ने कहा कि गढ़वाल सभा गढ़वाली बोली भाषा को आगे बढ़ाने के लिए कार्यरत है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र की संस्कृति और बोलियों का संरक्षण बेहद अहम् है।

नगर पलिकाध्यक्ष मनमोहन सिंह मल्ल ने कहा कि बेहद चिंतनीय विषय है कि प्रदेश सरकारें उर्दू अकादमी, पंजाबी अकादमी की घोषणा तो करती है लेकिन गढ़वाली व कुमांऊनी बोली भाषा के विकास के लिए गंभीर नहीं दिखतीं। उन्होंने गढ़वाल सभा भवन के लिए प्रोजेक्ट तैयार करने को कहा ताकि इसमें पालिका अपना सहयोग कर सके। उन्हांेने सुझाव दिया कि इस कार्य के लिए एक समिति का गठन किया गया जो पालिकाध्यक्ष को अपनी रिपोर्ट बनाकर देगी।

कार्यक्रम के दौरान लोक गायक जितेन्द्र पंवार व प्रेरणा भंडारी ने मनमोहक गीतों से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बालिका कैमल्स बैक रोड के बच्चों ने भी मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी।

कार्यक्रम के दौरान उत्कृष्ट योगदान के लिए उभरती गढ़वाली गायिका प्रेरणा भंडारी, लोकनृत्य कलाकार मनीषा पंवार, शिक्षिका निमेश डंगवाल सहित खेल उपलब्धि के लिए सृष्टि रावत को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन पूर्व सभासद कमल कैंतुरा ने किया।

इस मौके पर अध्यक्ष गढ़वाल सभा के आरडी नैथानी, महासचिव सत्यप्रसाद जोशी, पूर्व पालिकाध्यक्ष ओपी उनियाल, सुभाषिनी बत्र्वाल, राकेश भदोला, रमेश भंडारी, विनोद सेमवाल, सतीश ढौंढियाल, जगवीर भंडारी, राजेंद्र रावत, भगवती सकलानी, अनिल गोदियाल सहित बड़ी संख्या में स्थानीय लोग मौजूद रहे।

Key Words : Uttarakhand, Mussoorie, Garhwal Sabha, Foundation Day, Honors, Talents

 

LEAVE A REPLY