Home उत्तराखंड पर्यावरण वैश्विक चिन्ता का विषय : मुख्यमंत्री

पर्यावरण वैश्विक चिन्ता का विषय : मुख्यमंत्री

670
0
SHARE

राज्य वन सेवा 2015-17 बैच के अधिकारी प्रशिक्षणार्थियों का दीक्षांत समारोह आयोजित :

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को केंद्रीय अकादमी राज्य वन सेवा के राज्य वन सेवा 2015-17 बैच के अधिकारी प्रशिक्षणार्थियों के दीक्षांत समारोह को संबोधित किया। प्रशिक्षणार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि पर्यावरण वैश्विक चिन्ता का विषय है। उन्होंने कहा कि भारत में प्रकृति को पूजा जाता है। परन्तु आज के दौर में प्रकृति का शोषण किया जा रहा है। उत्तराखण्ड एक ऐसा राज्य है जो जैव विविधता के क्षेत्र में बहुत ही सम्पन्न है।

मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि प्रकृति प्रेम हमारे रग-रग में बसा है। जनसंख्या के बढ़ने से हमारी प्रकृति में भी दबाव बढ़ता जा रहा है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि प्रशिक्षणार्थी अपने इस ज्ञान को व्यवहारिकता में लाकर प्रकृति को बचाने में मदद करेंगे। उन्होंने कहा कि दीक्षांत समारोह का पल बहुत ही भावुक होता है, जहां एक और घर जाने की खुशी होती है वहीं दूसरी ओर साथियों से बिछड़ने का दुःख भी होता है। मुख्यमंत्री रावत ने सभी सफल अधिकारी प्रशिक्षणार्थियों को डिप्लोमा प्रमाण-पत्र तथा विशेष योग्यता प्राप्त करने वाले प्रशिक्षणार्थियों को विशेष पुरस्कार प्रदान किये।

इस अवसर पर डा. शशि कुमार, निदेशक, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी, डाॅ. एस.सी. गैरोला, महानिदेशक, भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद, राजपाल सिंह, निदेशक (वन शिक्षा), अजय कुमार प्रधान मुख्य वन संरक्षक सहित देहरादून स्थित अन्य प्रमुख संगठनों के विभागाध्यक्ष उपस्थित थे।

11 महिला अधिकारी प्रशिक्षणार्थियों ने लिया प्रशिक्षण :
देहरादून। दीक्षांत समारोह कार्यक्रम के दौरान बताया गया कि बैच में विभिन्न राज्यों से कुल 45 अधिकारी प्रशिक्षणार्थी प्रायोजित किये गए थे। जिनमें 11 मणिपुर, 33 राजस्थान एवं 01 केरल राज्य से हैं। इस बैच में कुल 11 महिला अधिकारी प्रशिक्षणार्थियों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया।

Key Words : Uttarakhand, Dehradun, CM, Environment, Global Concern

 

LEAVE A REPLY