Home अपना दून दून में हर्षोल्लास से मनाई गयी ईद-उल-जुहा – सावन के आखरी सोमवार...

दून में हर्षोल्लास से मनाई गयी ईद-उल-जुहा – सावन के आखरी सोमवार को मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु

354
0
SHARE

देहरादून/डीबीएल संवाददाता। प्रदेश की राजधानी देहरादून में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने सोमवार को ईद-उल-जुहा के मौके पर मस्जिदों में नमाज पढ़ी और एक दूसरे को मुबारकबाद देकर खुशी का इजहार किया। नमाज के बाद एक-दूसरे को गले लगाकर ईद की मुबारक बाद दी। विकासनगर बाजार में जामा मस्जिद में ईद की नमाज पढ़ी गई। हरिद्वार के भेल सेक्टर 1 स्थित मस्जिद पर मुस्लिम समाज के लोगों ने ईद-उल-जुहा की नमाज अदा की। राज्यपाल बेबी रानी मौर्य और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदेशवासियों विशेषकर मुस्लिम समुदाय को ईद-उल-जुहा की शुभकामनाएं दीं। अपने शुभकामना संदेश में राज्यपाल ने कहा कि ईद-उल-जुहा त्याग, बलिदान व ईश्वर के प्रति समर्पण का त्यौहार है। यह मानव कल्याण व जरूरतमंदों की सहायता की प्रेरणा देता है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने संदेश में कहा कि यह त्यौहार हमारी संस्कृति को और अधिक समृद्ध करने के साथ ही एकता व अखंडता को मजबूत करेगा।

सावन के आखरी सोमवार को मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु :

देहरादून। सावन के चौथे और अंतिम सोमवार के मौके पर मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी रही। वहीं, नीलकंठ महादेव मंदिर में बीती रात से ही भक्तों की कतार लगनी शुरु हो गई थी।

देहरादून के टपकेश्वर महादेव मंदिर, पौड़ी जनपद के नीलकंठ महादेव मंदिर के साथ ही हरिद्वार सहित सभी जिलों में शिवालयों में भक्तों की जलाभिषेक के लिए सुबह से ही भीड़ लगनी शुरू हो गई। सावन के चौथे सोमवार को नीलकंठ महादेव मंदिर में तो बीती रात से ही लोग कतारों में खड़े होने लगे थे।

रविवार रात बारह बजे से जलाभिषेक शुरू हुआ, जो कि सोमवार सायं तक निरंतर जारी रहा। रुड़की शहर के सिविल लाइंस स्थित प्रसिद्ध श्री सिद्धेश्वर महादेव शिव मंदिर, नहर किनारे स्थित श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर, सब्जी मंडी चैक स्थित शिव-हनुमान मंदिर, रामनगर स्थित श्रीराम मंदिर एवं शिव चैक मंदिर समेत अन्य मंदिरों में भगवान शिव की आराधना की। इसके अलावा भक्तों की ओर से घरों में भी भगवान शिव की विशेष पूजन किया गया। सावन के अंतिम सोमवार पर मंदिरों में शिव भक्तों की भीड़ उमड़ने के कारण मंदिर शिव के जयकारों से गूंज उठे।

LEAVE A REPLY