Home अपना दून पूर्व मुख्य सचिव डॉ. एम. रामचंद्रन की पुस्तक ‘‘मावरिक्स ऑफ मसूरी’’ पर...

पूर्व मुख्य सचिव डॉ. एम. रामचंद्रन की पुस्तक ‘‘मावरिक्स ऑफ मसूरी’’ पर किया मंथन

761
0
SHARE

देहरादून। उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्य सचिव डॉ. एम.रामचंद्रन द्वारा लिखित पुस्तक ‘‘मावरिक्स ऑफ मसूरी’’ पर दून के मंथन सभागार में चर्चा की गई। इस चर्चा का अयोजन दून पुस्तकालय एवं रिसर्च सेंटर देहरादून द्वारा किया गया था। इस पुस्तक में सिविल सेवा के अनुभवों, विभिन्न स्तरों पर सरकार के कामकाज को दिखाया गया हैं। पुस्तक में लेखक के व्यक्तिगत अनुभव से जुड़ी छोटी छोटी घटना, सरकार में विभिन्न स्तरों पर उनकी विभिन्न स्थानों में पोस्टिंग आदि शामिल हैं।

शनिवार को डॉ. एम.रामचंद्रन की पुस्तक ‘‘मावरिक्स ऑफ मसूरी’’ की समीक्षा एवं चर्चा के दौरान उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्य सचिव आईके पांडे, एन रविशंकर, सीएस नपलच्याल, पूर्व प्रमुख सचिव विभापुरी दास और दून पुस्तकालय एवं अनुसंधान केंद्र के निदेशक डॉ बीके जोशी उपस्थित थे। पुस्तक में उठाए गए विभिन्न मुद्दो के विश्लेषण और अंतर्दृष्टि पर विचार-विमर्श किया गया।

पुस्तक में लेखक द्वारा सिविल सेवा के रूप में सामने आने वाली चुनौतियों को दर्शाया गया है और आम लोगों के हितों के लिए सरकार और प्रशासन को किस तरह काम करने चाहिए उस पर भी विशिष्ट सुझाव दिये गये हैं। यह पुस्तक सिविल सेवक के अनुभवों का एक संग्रह है, जो विनम्र स्वभाव के साथ केन्द्र में सचिव और राज्य में मुख्य सचिव के पद पर कार्यरत रहे।

पुस्तक में सुझाव दिए गए हैं कि शासन में कहां बदलाव की आवश्यकता है और किस तरह से आम व्यक्ति की परेशानी मुक्त हो सकती है क्योंकि आज के संदर्भ में काफी प्रासंगिक है जब आज हर व्यक्ति सिस्टम में रहने लिए हर संभव प्रयास कर रहा है। इस पुस्तक में लेखक द्वारा बताया गया है कि पेशेवर योग्यता, कर्तव्य के प्रति प्रतिबद्धता और कड़ी मेहनत द्वारा शासन में सुधार किया जा सकता है।

1972 बैच के आईएएस अफसर रहे हैं डॉ. रामचंद्रन :

डॉ. एम.रामचंद्रन यूपी कैडर के 1972 बैच के आईएएस रहे हैं, जो 38 साल तक काम करते हुए 2010 में सेवानिवृत्त हुए थे। वे उत्तराखण्ड के मुख्य सचिव बने और शहरी विकास मंत्रालय में सचिव पद पर रहते हुए उन्होंने अपनी सराहनीय सेवाएं दीं।

चुनौतियों को अवसरों में बदलने का दिया संदेश :

डॉ.रामचंद्रन ने राज्य में अपने चुनौतीपूर्ण कार्यों को याद करते हुए कहा कि पहली बार वे उत्तरकाशी में कमिश्नर गढ़वाल, राज्य के अस्तित्व में आने के बाद शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव, इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेन्ट कमिश्नर एवं कार्यकाल के आखिर में राज्य के मुख्य सचिव के रूप में बुनियादी ढांचे की दृष्टि को देखते हुए विभिन्न विश्वविद्यालयों की स्थापना और देहरादून के नए हवाई अड्डे का विकास किया। उन्होंने अपने सभी अनुभवों से युवा पीढ़ी के अधिकारियों को संदेश दिया कि कैसे वे चुनौतियों को अवसरों में बदलें।

Key Words : uttrakhand, Dehradun, Former Chief Secretary Book, Mavericks of Mussoorie, Discussion

LEAVE A REPLY