Home संस्कृति एवं संभ्यता पूजा अर्चना के साथ भगवान मद्महेश्वर के कपाट शीतकाल के लिये बंद

पूजा अर्चना के साथ भगवान मद्महेश्वर के कपाट शीतकाल के लिये बंद

673
0
SHARE

ऊखीमठ। मध्य हिमालय में बसे द्वितीय केदार भगवान मद्महेश्वर के कपाट शीतकाल के लिए बन्द कर दिये गये। भगवान मद्महेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली प्रथम रात्रि प्रवास के लिए गौंडार गांव पहुंची। आज भगवान मद्महेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली गौण्डार गांव से प्रस्थान कर द्वितीय रात्रि प्रवास के लिये राकेश्वरी मन्दिर रांसी गांव पहुंचेगी और 25 नवम्बर को अपने शीतकालीन गद्दीस्थल आंेकारेश्वर मन्दिर ऊखीमठ में शीतकाल के छह माह के लिये विराजमान होगी। कपाट बंद होने के अवसर पर केन्द्रीय मंत्री उमा भारती भी धाम में मौजूद रहीं।

बुधवार सुबह श्रद्वालुओं ने भगवान मद्महेश्वर की पूजा अर्चना कर जलाभिषेक किया। इसके बाद भगवान के स्वयं भू लिंग का पंचामृत स्नान कर घी, ब्रह्मकमल, भस्म, धान, फल-फूल, केशरी वस्त्रों सहित अनेक पूजार्थ साम्रागीयों से समाधि दी गयी। इस बीच भगवान मद्महेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली को सजा कर पूजा अर्चना की गयी।

भगवान मद्महेश्वर की डोली के मन्दिर से बाहर आते ही वहां मौजूद सैकडों श्रद्धालुओं ने पुष्ष अक्षत्रों से चल विग्रह उत्सव डोली स्वागत किया। चल विग्रह उत्सव डोली के मन्दिर परिसर आते ही भगवान मद्महेश्वर के कपाट सवा आठ बजे मिनट पर धनु लग्न में शीतकाल के लिये बन्द कर दिये गये। कपाट बन्द होने के बाद भगवान मद्महेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली कूनचट्टी, मौखम्भा, नानौ, खटारा, बनातोली यात्रा पडावों पर श्रद्धालुओं को आशीष देते हुये प्रथम रात्रि प्रवास के लिये गौण्डार गांव पहुंची।

गुरूवार को चल विग्रह उत्सव डोली गौण्डार गांव से प्रस्थान कर द्वितीय रात्रि प्रवास के लिये राकेश्वरी मन्दिर रांसी पहुंचेगी। 25 नवम्बर को अपने शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में शीतकाल के 6 माह के लिये विराजमान होगी।

Key Words : Uttarakhand, Ukhimath, Madhameshwar, Kappat Close

 

LEAVE A REPLY