Home उत्तराखंड यात्रा व्यवस्थाओं का जायजा लेने 22 किमी पैदल गए रुद्रप्रयाग के डीएम

यात्रा व्यवस्थाओं का जायजा लेने 22 किमी पैदल गए रुद्रप्रयाग के डीएम

1113
0
SHARE
रुद्रप्रयाग। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने सोनप्रयाग से केदारनाथ 22 किमी पैदल मार्ग का भ्रमण कर यात्रा व्यवस्थाओं का जायजा लिया और सोनप्रयाग में प्रीपेड काउन्टर, होटलों तथा चिकित्सालय का निरीक्षण भी किया। उन्होंने होटल मालिकों से रेट लिस्ट लगाने और यात्रियों से अच्छा व्यवहार करने को कहा। जिलाधिकारी ने जिला पंचायत को निर्देशित किया कि यदि घोडे़-खच्चर, डंडी-कंडी वाले यात्रियों से अत्यधिक चार्ज या दुर्व्यवहार करते हैं तो उनका लाइसेंस निरस्त कर दिया जाय। उन्होंने गौरीकुण्ड का स्थलीय निरीक्षण कर घोड़ा-खच्चर यूनियन पदाधिकारियों से बातचीत कर उन्हें तीर्थयात्रियों के बीच यात्रा का शुभ संदेश देने की बात भी कही।
यात्रा मार्ग पर कुछ जगह सुलभ शौचालयों की आधी-अधूरी व्यवस्थाओं को देखकर जिलाधिकारी ने सुलभ इंटरनेशनल के सुपरवाइजर को कार्य शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने पैदल मार्गो पर बने एमआरपी (चिकित्सा इकाई) का भी निरीक्षण किया और चिकित्सा इकाई में व्यवस्थाएं पूरी न होने पर नाराजगी जताते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी को व्यवस्थाएं दुरूस्त करने को कहा। जिलाधिकारी ने जीएमवीएन को निर्देश दिये कि तीर्थयात्रियों को ठहरने एवं भोजन व्यवस्था में सुधार लाने को कहा, साथ ही अपने हटों में सफाई व्यवस्था बनाये रखने के निर्देश दिये।
जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने सभी सैक्टर मजिस्ट्रेट को निर्देशित किया कि वह अपनी ड्यूटी ईमानदारी से निभायें और यात्रियों से बात कर उनकी समस्या का हल करें तथा घोड़े-खच्चर संचालकों का लाइन्सेंस चैक करें। यदि कोई गलत पाया जाता है तो उसका लाइसेन्स शीघ्र निरस्त किया जाय। जिलाधिकारी ने यात्रा पड़ावों पर नियुक्त सैक्टर मजिस्ट्रेट को प्रतिदिन की यात्रा की रिपोर्ट देने की बात भी कही।
इस मौके पर पुलिस अधीक्षक पीएन मीणा, उप जिलाधिकारी केदारनाथ गोपाल सिंह चौहान सहित अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे।
9 घोड़ा-खच्चर संचालकों के लाइसेंस किए निरस्त :
शनिवार को जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने गौरीकुण्ड से केदारनाथ पैदल यात्रा मार्ग का निरीक्षण भी किया। जिसमें उन्होनें जगह-जगह पर घोड़े-खच्चरों के लाइसेंस चैक किये और यात्रियों से घोड़े-खच्चरों के रेट पता किया। साथ ही उन्होंने यात्रियों से स्थानीय दुकानदारों के व्यवहार के सम्बंध में जानकारी हासिल की। इस दौरान जिलाधिकारी ने नौ घोड़ा-खच्चर मालिकों तथा हॉकरों का लाइसेंस निरस्तीकरण के निर्देश दिए।
केदारनाथ में डीएम ने ली बैठक :
शनिवार को जिलाधिकारी ने केदारनाथ में मन्दिर समिति, जीएमवीएन, तीर्थ पुरोहित, एसडीआरएफ, निम, नगर पंचायत आदि के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में उन्होंने कर्मचारियों को निर्देश दिये कि यात्रियों को सुविधा मुहैया कराई जाय और यात्रियों के साथ अच्छा व्यवहार बनाये रखें।

Key Words : Uttarakhand, Rudraprayag, DM, Yatra Marg, Arrangements

LEAVE A REPLY